Breaking

Primary Ka Master | Education News | Employment News latter

Blog Search

17 नव॰ 2022

प्राचार्य पद से हुआ मोहभंग ... वेतन शिक्षकों के समान, उलझनें तमाम

कानपुर, उच्च शिक्षा आयोग से नियुक्ति पाए डिग्री कॉलेजों के प्राचायों का पद से मन मोह भंग हो गया है। किसी ने प्रबंधन की तानाशाही तो किसी ने घरेलू कारण काह देते हुए पद से इस्तीफा दे दिया है। अभी तक शहर के तीन कॉलेजों के प्राचायों और उन्नाव के कॉलेज में नियुक्त हुए शहर के प्राचार्य ने भी पद त्याग दिया है। शिक्षकों के समान वेतन
मिलने और प्रबंधतंत्र से सामंजस्य न बैठने की वजह से प्राचार्य इस्तीफा दे रहे हैं।

आयोग ने प्रदेश के 291 अनुदानित महाविद्यालयों में एक साल पहले प्राचार्यो की नियुक्ति की थी। इनमें अब तक 48 प्राचार्य पद से इस्तीफा दे चुके हैं। इससे एक बार फिर इन 48 महाविद्यालयों की जिम्मेदारी प्रभारी प्राचायों पर आ गई है कानपुर उन्नाव में चार महाविद्यालयों की जिम्मेदारी प्रभारी प्राचायों पर है।

डीजी कॉलेज में वाराणसी को प्रो. सुनंदा दुबे को प्राचार्य नियुक्त किया गया था। प्रो दुबे ने पारिवारिक वजह बताते हुए एक माह पहले पद से इस्तीफा दे दिया है। डोसी लॉ कॉलेज के प्राचार्य प्रो. आरके उपाध्याय ने भी इस्तीफा दे दिया है। ज्वालादेवी विद्या मंदिर महिला पीजी कॉलेज की प्राचार्या प्री. प्रीती राठौड़ ने भी एक साल पूरा होते ही इस्तीफा दे दिया है।

बीएसएसडी कॉलेज के शिक्षक प्रो. आनंद शुक्ला डोएसएन कॉलेज उन्नाव में प्राचार्य पद पर नियुक्त हुए थे, उन्होंने भी इस्तीफा दे दिया है। वहाँ एएनडी कॉलेज में कोर्ट केस के कारण अब तक स्थायी प्राचार्य की नियुक्ति नहीं हुई है। सूत्रों ने बताया कि महाविद्यालयों में भी प्राचार्य अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं।

Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,

close