आरओ/एआरओ परीक्षा निरस्त करने को आयोग पर प्रदर्शन - Get Primary ka Master Latest news by Updatemarts.com, Primary Ka Master news, Basic Shiksha News,

आरओ/एआरओ परीक्षा निरस्त करने को आयोग पर प्रदर्शन

 आरओ/एआरओ पेपर लीक होने के विरोध में प्रतियोगी छात्रों ने सोमवार को उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के बाहर प्रदर्शन किया। ‘पेपर लीक है, सरकार बिल्कुल वीक है’ नारे लगाते हुए आक्रोशित छात्रों ने मुख्यमंत्री का पुतला फूंका। मांग किया कि आरओ/एआरओ परीक्षा निरस्त करते हुए दोबारा से कराई जाए।


इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र नेता हरेन्द्र कुमार ने दावा किया कि परीक्षा शुरू होने से पहले व्हाट्सएप पर पेपर वायरल हो रहा था। आयोग को चेतावनी दी कि अगर परीक्षा निरस्त नहीं की जाती तो प्रदेश सरकार छात्रों का विरोध झेलने को तैयार रहे। पुतला फूंकने वालों में शिवा केसरवानी, आनंद, आदर्श भदौरिया, सद्दाम अंसारी आदि शामिल रहे।

नकलची को भेजा जेल प्रतापगढ़ में आरओ, एआरओ की परीक्षा के दौरान रविवार को अभ्यर्थी प्रवीण कुमार पटेल को इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के साथ पकड़ लिया गया था। सोमवार को पुलिस ने उसे जेल भेज दिया।

2016 में भी लीक हुआ था प्रश्न पत्र

प्रयागराज। आरओ/एआरओ 2023 की प्रारंभिक परीक्षा में पेपर लीक के आरोपों के बीच 2016 की घटना ताजा हो गई है। आरओ/एआरओ 2016 में पेपरलीक होने के कारण वह भर्तीपूरी होने में पांच साल का समय लग गया था।

आरओ/एआरओ-2016 की प्रारंभिक परीक्षा पहली बार 27 नवंबर 2016 को 21 जिलों के 827 केंद्रों पर आयोजित की गई थी। दो पालियों में आयोजित परीक्षा के लिए 3,85,191 अभ्यर्थी पंजीकृत थे। परीक्षा के दौरान लखनऊ के एक केंद्र से व्हाट्सएप पर पेपर वायरल हो गया था और पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने इस मामले में लखनऊ के हजरतगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इस प्रकरण की जांच सीबीसीआईडी को सौंपी गई थी। एजेंसी ने जांच पूरी होने के बाद 21 सितंबर 2018 को न्यायालय में अंतिम रिपोर्ट प्रस्तुत की। जिसमें परीक्षा में पेपर आउट होने के कोई ठोस साक्ष्य नहीं होने की बात कही गई थी।

हिंदी के पेपर में गलतियों की भरमार

प्रयागराज। आरओ/एआरओ 2023 परीक्षा की दूसरी पाली में आयोजित सामान्य हिन्दी के प्रश्नपत्र में गलतियों की भरमार है। भाषाविज्ञानी आचार्य पं. पृथ्वीनाथ पांडेय के अनुसार बिना शब्दों के उचित प्रयोग की समझ के प्रश्नपत्र तैयार कराया गया है। सीरीज़ डी सामान्य हिन्दी के प्रश्नपत्र में चिह्नों का गलत प्रयोग हुआ है। प्रश्न-संख्या 20 ़गलत है और उत्तर-विकल्प भी, क्योंकि इस प्रश्न में एक अशुद्ध वाक्य बताने को कहा गया है, जबकि इसमें दो वाक्य अशुद्ध हैं। प्रश्न संख्या 22 और उत्तर एक सिरे से गलत हैं। प्रश्न 24 में बिल्कुल का प्रयोग है, जबकि ‘बिल्कुल’ निरर्थक शब्द है, सार्थक और सही शब्द ‘बिलकुल’है, जो अरबी-भाषा का शब्द है। प्रश्न 28 में ‘आवृतिवाचक’ शब्द दिख रहा है, जबकि ‘आवृत्तिवाचक’ होगा। प्रश्न 32 और उत्तर-विकल्प ़गलत है, क्योंकि उसमें एक शुद्ध शब्द चयन करने को कहा गया है, जबकि वर्तनी की दृष्टि से उसमें दो उत्तर-विकल्प शुद्ध हैं। प्रश्न 37 का प्रश्नात्मक वाक्य ही अशुद्ध है।

Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,

close